मोहनदास नैमिशराय

दलित साहित्य की अवधारणा में रंगमंच

इस पुस्तक में ऐसे नाटकों को भी शामिल किया गया है जिनका मंचन नहीं हुआ दूसरी तरफ उन प्रस्तुतियों को भी लिया गया है, जो पुस्तक रूप में नहीं आई हैं, लेकिन दलित नाटक या रंगमंच के लिए उनकी पूरी ईमानदारी रही। एक रंगकर्मी होने के नाते वे शिद्दत के साथ अपने इस सामाजिक बदलाव के अभियान में जुड़े रहे। यहाँ विशेष रूप में मैं बताना चाहूंगा कि दलित अस्मिता वाले नाटकों पर ही इस शोध सम्बन्धी पुस्तक में अधिक ज़ोर

Undefined